अभी यात्रा में 35 दिन शेष है पर अमरनाथ यात्रा के मात्र 25 दिन में अंत‌र्ध्यान हुए बाबा बर्फानी

बाबा अमरनाथ यात्रा को देशभर से श्रद्धालुओं के आने का सिलसिला जारी है। यात्रा के 25वें दिन 6150 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में शिव¨लग के दर्शन किए। अब तक 236157 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में शिव¨लग के दर्शन कर लिए हैं।

इंडिया, कोर न्यूज़ टीम श्री नगर Last updated: 23 July 2018 | 15:11:00

अभी यात्रा में 35 दिन शेष है पर अमरनाथ यात्रा के मात्र 25 दिन में अंत‌र्ध्यान हुए बाबा बर्फानी

जम्मू, राज्य ब्यूरो। श्री अमरनाथ यात्रा के मात्र 25 दिन में बाबा बर्फानी अंत‌र्ध्यान हो गए हैं। लगातार कई वर्षो से यात्रा के कुछ सप्ताह बाद ही हिमलिंग पूरी तरह से पिघल जाता है। बावजूद भक्तों में यात्रा को लेकर उत्साह बना रहता है। इस बार यात्रा शुरू होने से पहले बाबा बर्फानी का आकार करीब चौदह फीट था। एक सप्ताह पहले तक यह मात्र पांच फीट ही रह गया था।


रविवार को बाबा बर्फानी पूरी तरह से अंत‌र्ध्यान हो गए। अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने हालांकि हिमलिंग को पिघलने से रोकने के लिए कई कदम उठाए हैं। पहले हेलीकॉप्टर पवित्र गुफा के बाहर कुछ दूरी पर उतरता था। उस समय यह कहा गया कि इसी कारण हिम¨लग जल्द पिघल जाता है। इसके बाद श्राइन बोर्ड ने हेलीकॉप्टर को पवित्र गुफा से पांच किलोमीटर दूर पंजतरणी में उतारना शुरू किया।


यही नहीं हिमलिंग को कोई हाथ न लगाए, इसके लिए पूरी गुफा के भीतर लोहे की ग्रिल लगाई गई है। 28 जून को शुरू हुई यात्रा 26 अगस्त को रक्षाबंधन के दिन खत्म होगी। अभी यात्रा में 35 दिन शेष हैं। ऐसे में श्रद्धालुओं में बहुत मायूसी जरूर होती है, मगर उनमें यात्रा को लेकर पहले की तरह ही उत्साह बरकरार है। इस बार यात्रा के पहले पच्चीस दिन में ही दो लाख 36 हजार से अधिक श्रद्धालु दर्शन कर चुके हैं। बालटाल में लंगर लगाने वाली संस्था श्री अमरनाथ युवा मंडल करनाल के सदस्यों ने बताया कि बाबा बर्फानी अंत‌र्ध्यान जरूर हो गए हैं, लेकिन श्रद्धालुओं में उत्साह पहले की तरह ही बरकरार है।

बाबा अमरनाथ यात्रा को देशभर से श्रद्धालुओं के आने का सिलसिला जारी है। यात्रा के 25वें दिन 6150 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में शिव¨लग के दर्शन किए। अब तक 236157 श्रद्धालुओं ने पवित्र गुफा में शिव¨लग के दर्शन कर लिए हैं। जम्मू के भगवती नगर स्थित यात्रा के आधार शिविर यात्री निवास से रविवार सुबह 1179 श्रद्धालुओं का जत्था पहलगाम और बालटाल के लिए रवाना हुआ।

पहलगाम रूट से यात्रा करने के लिए रवाना हुए कुल 797 श्रद्धालुओं में 610 पुरुष, 140 महिलाएं और 47 साधु शामिल थे। वहीं, बालटाल रूट से 382 श्रद्धालु रवाना हुए, जिनमें 274 पुरुष और 108 महिलाएं शामिल थे। बाबा अमरनाथ की यात्रा 28 जून से शुरू हुई थी, जो 26 अगस्त को रक्षाबंधन वाले दिन संपन्न होगी। यात्रा को शुरू हुए अभी एक महीने का समय भी पूरा नहीं हुआ है। हालांकि, अभी भी काफी संख्या में श्रद्धालु सीधे ही जम्मू में आए बिना पहलगाम व बालटाल पहुंच कर यात्रा पर जा रहे हैं।

राज्यपाल एनएन वोहरा ने श्री बाबा अमरनाथ यात्रा के कैंप डायरेक्टरों और प्रशासन को निर्देश दिए कि बाबा अमरनाथ यात्रा संपन्न होने तक सारे प्रबंध बिलकुल सही तरीके से जारी रहे। श्रद्धालुओं को किसी किस्म की परेशानी का सामना न करना पड़े। राज्यपाल ने बालटाल आधार शिविर, दोमेल कंट्रोल गेट, नीलग्रथ हेलीपैड का दौरा कर श्रद्धालुओं को दी जा रही सुविधाओं का जायजा लिया।

बालटाल आधार शिविर में राज्यपाल ने दिल्ली व राजस्थान के डॉक्टरों से मुलाकात की। ये डॉक्टर चालीस बैड के अस्पताल में 28 जून से अपनी सेवा दे रहे हैं। राज्यपाल ने कुछ लंगर स्थलों, श्राइन बोर्ड हट, सॉलिड वेस्ट ट्रीटमेंट प्लांट के कामकाज की समीक्षा भी की। राज्यपाल ने साफ सफाई की व्यवस्था का जायजा लेते हुए कहा कि सफाई व्यवस्था को दुरस्त रखने के लिए प्रभावी कदम उठाए जाए।

उन्होंने कैंप डायरेक्टरों के साथ बैठक की और श्रद्धालुओं को दी जाने वाली सुविधाओं का जायजा लिया। वह नीलग्रथ हेलीपैड गए और हेलीकॉप्टर सर्विस का जायजा भी लिया। श्रद्धालुओं की कमी को देखते हुए राज्यपाल अगले सप्ताह बैठक करेंगे, जिसमें यात्रा के प्रबंधन से जुड़ी एजेंसियां, सुरक्षा बलों के अधिकारी भी शामिल होंगे।

 

 

 

 

 

 

credit to jagran

Write Your Own Review

Customer Reviews

सबसे तेज़

अन्य खबरे