भागलपुर हिंसा : कोर्ट ने केन्द्रीय मंत्री अश्वनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत की जमानत याचिका खारिज की

कोर्ट ने सरकारी वकील से पूछा कि कोई गवाह पुलिस के अलावा है तो नाम बताये, लेकिन सरकारी वकील की तरफ से कोई नाम नहीं आया. कोर्ट ने सुनवाई के बाद फैसला थोड़ी रिजर्व में रखने के बाद सुनाते हुए कहा कि अर्जित शास्तव की नियमित जमानत याचिका खारिज की जाती है.

इंडिया, कोर न्यूज़ टीम पटना Last updated: 03 April 2018 | 16:02:00

भागलपुर हिंसा :  कोर्ट ने केन्द्रीय मंत्री अश्वनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत की जमानत याचिका खारिज की

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी चौबे के बेटे और भाजपा नेता अर्जित शाश्वत को भगलपुर के एसीजेएम कोर्ट ने जमानत याचिका खारिज कर दी है .इससे पहले कोर्ट ने उनकी अग्रिम जमानत याचिका भी खारिज की थी.बहस पूरी होने के तकरीबन एक घंटा बाद फैसला सुनाया गया. कोर्ट ने उन्हें न्यायिक हिरासत में भेजा है.


मंगलवार को अवर न्यायधीश एके श्रीवास्तव की अदालत में सुनवाई हुई | अर्जित की तरफ से कहा गया कि पुलिस को छोड़ कर कोई गवाह नहीं है, कोई सबूत नही हैं. किसी को इनकी उपस्थिति में कोई चोट नहीं आई, कोई घायल नहीं हुआ. ऐसे में इन्हे जमानत दे दी जाये. कोर्ट ने सरकारी वकील से पूछा कि कोई गवाह पुलिस के अलावा है तो नाम बताये, लेकिन सरकारी वकील की तरफ से कोई नाम नहीं आया. कोर्ट ने सुनवाई के बाद फैसला थोड़ी रिजर्व में रखने के बाद सुनाते हुए कहा कि अर्जित शास्तव की नियमित जमानत याचिका खारिज की जाती है.

क्या है अर्जित शाश्वत पर आरोप

गौरतलब है की 17 मार्च को भारतीय नववर्ष के मौके पर भागलपुर के सैंडिस कंपाउण्ड से जुलूस निकला था | एक धार्मिक जुलूस के दौरान दो समुदायों के बीच हुई झड़प के मामले में केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत को पुलिस ने आरोपी बनाया था. अरिजित ने अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिए भागलपुर कोर्ट में अग्रिम जमानत के लिए याचिका दायर की थी, लेकिन कोर्ट ने उनकी याचिका खारिज कर दी थी. याचिका रद्द होने के बाद अरिजित ने पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया था.

अरिजित ने मीडिया से बात करते हुए खुद को निर्दोष बताया था. साथ ही उन्होंने कहा था कि उन्हें एक राजनीतिक षडयंत्र के तहत फंसाया जा रहा है. अर्जित के पिता अश्विनी चौबे ने अपने बेटे पर लगे आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए इसके लिए कांग्रेस और आरजेडी को जिम्मेदार ठहराया था.   



 PHOTO CREDIT - www.jagran.com

Write Your Own Review

Customer Reviews

अन्य खबरे