बिहार हिंसा पर तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत पे लगाए गंभीर आरोप

तेजस्वी ने आपने ट्विटर पर लिखते हुए कहा है की `हम युवाओं को नौकरी और बेरोजगारों को रोजगार देने की बात करते हैं वही आरएसएस और बीजेपी युवाओं का ध्यान भटकाने के लिए हिंसा भड़काती है जो चिंताजनक है

इंडिया, कोर न्यूज़ टीम पटना Last updated: 30 March 2018 | 16:00:00

बिहार हिंसा पर तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर मोहन भागवत पे लगाए गंभीर आरोप

बिहार में रामनवमी के बाद से हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है. ६ जिलों के बाद हिंसा की आग शुक्रवार सुबह नवादा तक पहुंचा गई है इस मुद्दे पर बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत पर सीधा निशाना साधा है.

तेजस्वी ने आपने ट्विटर पर लिखते हुए कहा है की `हम युवाओं को नौकरी और बेरोजगारों को रोजगार देने की बात करते हैं वही आरएसएस और बीजेपी युवाओं का ध्यान भटकाने के लिए हिंसा भड़काती है जो चिंताजनक है उन्होंने कहा कि बिहार में मोहन भागवत 14 दिनों तक रूके थे, अपनी यात्रा में वो इस घटना को डिजाइन करके गए थे. तेजस्वी ने कहा कि 14 दिन वो लोगों को यही ट्रेनिंग देकर गए हैं,

उन्होंने आगे लिखा, `मोदी जी बताएं बीजेपी के घोषणा पत्र के कितने वायदे उन्होंने पूरे किए है? युवाओं के साथ विश्वासघात क्यों किया?` बताए कि पश्चिम बंगाल, बिहार समेत देश के अलग-अलग हिस्सों से सांप्रदायिक हिंसा की खबरें क्यो आ रही हैं।

आइये जान लेते है पूरा मामला

बिहार में औरंगाबाद और भागलपुर से सांप्रदायिक हिंसा की खबरों के बाद अब मुंगेर और समस्तीपुर में भी सांप्रदायिक हिंसा के तनाव का माहौल है। इतना ही नही हिंसा का दौर अब नवादा तक पहुंच गया है। शुक्रवार सुबह बजरंगबली की मूर्ति तोड़े जाने को लेकर दो समुदाय के बीच काफी झड़प हुई हिंसा में कई गाड़ियों के शीशे तोड़े गए हैं. हालात को काबू में लाने के लिए पुलिस ने अभी तक 10 राउंड की फायरिंग भी की है इस बीच औरंगाबाद में हिंसा के मामले में गिरफ्तार भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) कार्यकर्ता अनिल सिंह गुरुवार को पुलिस कस्टडी से फरार हो गया। औरंगाबाद और समस्तीपुर समेत कई जिलों में हिंसा के आरोप में पुलिस ने सवा सौ से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया था। जिला प्रशासन ने इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी है. लेकिन फिर भी हिंसा रुकने का नाम नही ले रही ..... 

 photo credit - 

Write Your Own Review

Customer Reviews

सबसे तेज़

अन्य खबरे