दिल्ली के इस परिवार ने पेश की मिसाल, बेटे को मुखाग्नि दी; फिर किया मतदान

नई दिल्ली, जेएनएन। निर्वाचन आयोग के मतदाता जागरूकता अभियान और विज्ञापनों के बाद भी दिल्ली में मतदान 61 फीसद भी नहीं पहुंच सका। वहीं एक परिवार ऐसा भी था, जिसने अपने घर के चिराग का अंतिम संस्कार करने के बाद मतदान केंद्र में जाकर मतदान किया।

इंडिया, कोर न्यूज़ टीम नई दिल्ली Last updated: 14 May 2019 | 10:48:00

दिल्ली के इस परिवार ने पेश की मिसाल, बेटे को मुखाग्नि दी; फिर किया मतदान

नई दिल्ली, जेएनएन। निर्वाचन आयोग के मतदाता जागरूकता अभियान और विज्ञापनों के बाद भी दिल्ली में मतदान 61 फीसद भी नहीं पहुंच सका। वहीं एक परिवार ऐसा भी था, जिसने अपने घर के चिराग का अंतिम संस्कार करने के बाद मतदान केंद्र में जाकर मतदान किया।

घटना उत्तर पश्चिमी-दिल्ली लोकसभा संसदीय क्षेत्र के दरियापुर गांव की है। 38 वर्षीय सुनील 10 अप्रैल की शाम को दरियापुर में ट्रैक्टर से खेत की जुताई कर रहे थे। इसी दौरान उनका पैर फिसल गया और वह ट्रैक्टर के पहिये के नीचे आ गए। ट्रैक्टर के पीछे जुताई के लिए लगा हैरो सुनील के ऊपर चढ़ गया।

इस कारण उनकी रीड़ की हड्डी कट गई। मौके पर मौजूद लोगों ने सुनील को नजदीकी वाल्मीकि अस्पताल में भर्ती कराया। गंभीर हालत के कारण सुनील को मैक्स अस्पताल रेफर कर दिया गया। वहां से इन्हें वसंत कुंज के स्पाइन इंजरी सेंटर में रेफर कर दिया गया, जहां पर उनका एक महीने तक इलाज चला। 11 मई की रात 11.30 बजे सुनील की मौत हो गई।

12 मई को रोहिणी के अंबेडकर अस्पताल में पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को शव सौंप दिया गया। सुनील के पिता इंदर सिंह ने बेटे को मुखाग्नि दी। इसके बाद सुनील के पिता, मां राजो देवी, भाई विक्रम सिंह व विक्रम सिंह की पत्नी ज्योति ने सुनील ने मतदान केंद्र में जाकर मतदान किया।

 

 

हंसराज हंस और विजेंद्र गुप्ता ने दी परिवार को सांत्वना

 

घटना की सूचना जब भाजपा के उत्तर पश्चिमी दिल्ली लोकसभा क्षेत्र से उम्मीदवार हंसराज हंस और रोहिणी से भाजपा के विधायक विजेंद्र गुप्ता को मिली तो वह परिवार से मिलने पहुंचे। दोनों ने परिवार को सांत्वना दी और उनके प्रति सम्मान प्रकट किया। इस पूरे घटनाक्रम को विजेंद्र गुप्ता ने ट्वीट किया है।

 

 

credit by: jagran

Write Your Own Review

Customer Reviews

सबसे तेज़

अन्य खबरे