व्हाट्सएप बना वेश्यावृत्ति का सबसे बड़ा जरिया

रमेश ने कहा, “दूसरे वर्ग में वे लोग हैं, जो पार्ट टाइम पेशेवर हैं और वेश्यावृत्ति से तब जुड़ते हैं, जब पैसे की जरूरत होती है। तीसरे वर्ग में वे शामिल हैं, जो विलासितापूर्ण जीवनशैली जीना चाहते हैं और तकनीक का आगमन सभी के लिए काफी फायदेमंद साबित हुआ है

इण्डिया, कोर न्यूज़ टीम दिल्ली Last updated: 11 April 2018 | 13:10:00

व्हाट्सएप बना  वेश्यावृत्ति का सबसे बड़ा  जरिया

केरल में वेश्यावृत्ति स्मार्ट फोन और एप के जरिए किए जाने वाले व्यापारिक लेनदेन के साथ हाईटेक हो गया है। यह खुलासा केरल राज्य एड्स नियंत्रण समाज (केएसएसीएस) द्वारा गैर सरकारी संगठनों के साथ मिलकर कराए गए एक शोध में हुआ है। इसमें कहा गया कि इस पेशे से जुड़े अधिकांश लोग वॉट्सएप के जरिए अपना धंधा चलाते हैं और मुलाकात का स्थान तय करते हैं।

केएसएसीएस परियोजना के निदेशक आर. रमेश ने आईएएनएस से बातचीत में कहा कि ये नंबर उन लोगों के हैं जो पंजीकृत हैं।

रमेश ने कहा, “हम लगातार इन लोगों के साथ काम करने में व्यस्त रहते हैं और यौन संबंध संचारित रोगों से बचाव के लिए इन लोगों को नियमित मेडिकल जांच की सुविधा प्रदान करते हैं।”

उन्होंने कहा कि इस पेशे से जुड़ीं अधिकांश महिलाएं गरीब परिवारों से हैं, लेकिन इसमें एक, दूसरे और तीसरे वर्ग के लोग भी शामिल हैं।

रमेश ने कहा, “दूसरे वर्ग में वे लोग हैं, जो पार्ट टाइम पेशेवर हैं और वेश्यावृत्ति से तब जुड़ते हैं, जब पैसे की जरूरत होती है। तीसरे वर्ग में वे शामिल हैं, जो विलासितापूर्ण जीवनशैली जीना चाहते हैं और तकनीक का आगमन सभी के लिए काफी फायदेमंद साबित हुआ है।”

केरल में फिलहाल 15,802 महिलाएं और 11,707 पुरुष वेश्यावृत्ति से जुड़े हुए हैं।

इनके बीच दो महिलाएं और 10 पुरुष एचआईवी पॉजिटिव पाए गए हैं।

 

credit news code pic Max Pixel

Write Your Own Review

Customer Reviews

सबसे तेज़

अन्य खबरे