हिमाचल: चरम पर मंडी कांग्रेस की कलह, भाजपा से लड़ने की बजाय अपनों से उलझ रहे कांग्रेसी

मंडी, चुनावी बेला पर मंडी जिला कांग्रेस की कलह खुलकर सामने आ गई है। भाजपा से लड़ने की बजाय कांग्रसियों ने एक-दूसरे के विरुद्ध मोर्चा खोल दिया है। मंडी जिला कांग्रेस का असली सरताज कौन है?

इंडिया, कोर न्यूज़ टीम शिमला Last updated: 07 May 2019 | 11:00:00

हिमाचल: चरम पर मंडी कांग्रेस की कलह, भाजपा से लड़ने की बजाय अपनों से उलझ रहे कांग्रेसी

मंडी, चुनावी बेला पर मंडी जिला कांग्रेस की कलह खुलकर सामने आ गई है। भाजपा से लड़ने की बजाय कांग्रसियों ने एक-दूसरे के विरुद्ध मोर्चा खोल दिया है। मंडी जिला कांग्रेस का असली सरताज कौन है? इसको लेकर वीरभद्र सिंह, पूर्व प्रदेशाध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू व पूर्व मंत्री कौल सिंह ठाकुर के सिपहसलार आमने-सामने आ गए हैं। मौजूदा जिला अध्यक्ष दीपक शर्मा सूक्खू व कौल सिंह ठाकुर के सिपहसलार हैं। गत सप्ताह कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किए गए शशि शर्मा वीरभद्र्र सिंह के पांच प्यारों से एक हैं। दीपक शर्मा गत दिनों पत्रकारवार्ता कर शशि शर्मा की नियुक्ति को गलत ठहरा चुके हैं। दो दिन से दोनों ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के कार्यक्रमों व पत्रकारवार्ता में एक साथ शिरकत जरूर की, लेकिन दूरियां बराबर बनाई रखी।

सोमवार को एआइसीसी सचिव संजयदत्त के कार्यक्रम में दोनों एक साथ थे। उसके बाद शशि शर्मा समर्थकों के साथ गांधी भवन कार्यभार संभालने गए तो वहां दीपक शर्मा नदारद थे। कार्यभार संभालने के बाद शशि शर्मा ने कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर फीडबैक ली। इसके बाद वह भी चलते बने। एआइसीसी की तरफ से यहां कांग्रेस प्रत्याशी आश्रय शर्मा के ससुर राजीव गंभीर को पर्यवेक्षक लगा रखा है। नामांकन रैली के बाद वह भी कहीं नजर नहीं आ रहे हैं। एआइसीसी की तरफ से अब संजय दत्त को मंडी का प्रभारी लगाया गया है। राजीव गंभीर को उनके पद से हटाने की चर्चा है। हालांकि कांग्रेसी नेता ऐसी चर्चाओं को सिरे से खारिज कर रहे हैं। चुनाव अपने अंतिम चरण की ओर बढ़ रहा है। कांग्रेस पार्टी को अपनों की कलह से जूझना पड़ रहा है।

चर्चा यह भी है कि युवा कांग्रेस ने मंडी व कुल्लू में दो सम्मेलन रखे थे। पैसे की किल्लत व तालमेल के अभाव में दोनों सम्मेलनों से युकां नेताओं ने अपने हाथ खींच लिए हैं। धरातल पर भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं व नेताओं में तालमेल का अभाव साफ देखने को मिल रहा है। नेताओं की आपसी कलह से कार्यकर्ताओं का मनोबल गिर रहा है।

शशि शर्मा अवैध अध्यक्ष हैं। मेरी गैरमौजूदगी में गांधी भवन में जाकर जिस तरह से अध्यक्ष की कुर्सी पर जाकर बैठ गए वह गैर जिम्मेदराना हरकत है। सूचना है कि कार्यालय में सामान से छेड़छाड़ व तोड़फोड़ की गई है। सारी रिपोर्ट तैयार कर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को भेजी जा रही है।
-दीपक शर्मा, अध्यक्ष मंडी जिला कांग्रेस।

कांग्रेस पार्टी ने जो दायित्व सौंपा है। मैंने उसका निर्वहन किया है। मुझे किसी पर कोई टिप्पणी नहीं करनी है। पार्टी का काम घर बैठकर नहीं कार्यालय से ही होगा।
-शशि शर्मा, कार्यकारी अध्यक्ष मंडी जिला कांग्रेस।

 

 

 

credit by: jagran

Write Your Own Review

Customer Reviews

सबसे तेज़

अन्य खबरे