कठुआ रेप केस में उप मुख्यमंत्री निर्मल सिंह का कहना पुलिस की जांच निष्पक्ष

मेनका गांधी ने वीडियो मैसेज में कहा है कि वह इस वारदात से बहुत दुखी हैं. उन्‍होंने कहा कि उनका मंत्रालय सोमवार को कैबिनेट नोट में पॉक्‍सो एक्‍ट में संशोधन की मांग करेंगे और पॉक्सो ऐक्ट में संशोधन करने का प्रस्‍ताव लाएगी.

इंडिया, कोर न्यूज़ टीम डेस्क Last updated: 13 April 2018 | 14:22:00

कठुआ रेप केस में उप मुख्यमंत्री निर्मल सिंह का कहना पुलिस की जांच निष्पक्ष

जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले की 8 साल की आसिफा के अहरण, गैंगरेप और हत्या की शर्मनाक घटना पर सूबे के डिप्टी सीएम निर्मल सिंह ने कहा कि इस मामले में पुलिस जांच निष्पक्ष रही है. दूसरी तरफ इस घटना के बाद इंसाफ में रुकावट पैदा करने वाले कठुआ और जम्मू के वकीलों के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट के कुछ वकीलों ने चीफ जस्टिस से गुहार लगाई है.

वकीलों ने चीफ जस्टिस से मांग की कि वो बार काउंसिल ऑफ इंडिया को जम्मू और कठुआ बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों पर कार्रवाई का निर्देश दें. वकीलों की इस गुहार पर चीफ जस्टिस ने उनसे कहा कि वो पहले औपचारिक याचिका दायर करें.

उप मुख्य मंत्री निर्मल सिंह ने पुलिस के काम का बचाव किया है. निर्मल सिंह का कहना है, "ये बहुत ही निंदनीय है. एक बच्ची का अहरण होता है, रेप होता है, शव जंगल में फेंका जाता. पुलिस जांच करती है. विधानसभा में मुद्दा आता है. क्राइम ब्रांच जो जांच करती है उसपर सवाल उठाना सही नहीं है. क्रिमिनल न हिंदू होता है न मुसलमान. अपराधी अपराधी होता है. किसी मासूम पर जुल्म नहीं होना चाहिए. पुलिस ने जो जांच की है, हमें विश्वास है कि वो निष्पक्ष है और अगर हमें कहीं लगता है कि कुछ गलत है तो मानीय अदालत देखेंगे."


कठुआ रेप केस: मेनिका गांधी करेंगी मांग, बच्चों से रेप पर मिले मौत की सजा 


आप को बात दे -मेनका गांधी ने वीडियो मैसेज में कहा है कि वह इस वारदात से बहुत दुखी हैं. उन्‍होंने कहा कि उनका मंत्रालय सोमवार को कैबिनेट नोट में पॉक्‍सो एक्‍ट में संशोधन की मांग करेंगे और पॉक्सो ऐक्ट में संशोधन करने का प्रस्‍ताव लाएगी. इस संशोधन के मुताबिक, 12 साल से कम उम्र की बच्ची से रेप के मामले में मौत की सज़ा का प्रावधान रखा जाएगा. उन्‍होंने कहा है कि वह कथुआ और अन्‍य बलात्‍कार की घटना से बहुत दुखी हैं जो बच्‍चों के साथ हो रही हैं.

कठुआ रेप केस के बाद देशभर में आरोपियों को कठोर सजा देने के मांग को लेकर हो रहे प्रदर्शन के बीच महिला और बाल विकास मंत्री मेनका गांधी का कहना है कि सरकार पॉक्सो ऐक्ट में संशोधन करने के लिए कैबिनेट की बैठक में प्रस्‍ताव लाएगी. इस संशोधन के मुताबिक, 12 साल से कम उम्र की बच्ची से रेप के मामले में मौत की सज़ा का प्रावधान रखा जाएगा. अभी तक पॉस्‍को एक्ट के सेक्शन 3,4 और 6 के मुताबिक़ रेप पर 10 से लेकर उम्र कैद की सज़ा का प्रावधान है.

क्या है पूरा मामला

दस जनवरी को जम्मू के कठुआ से बच्ची गायब हो गई और 17 जनवरी को उसका शव जंगल में मिला। पोस्टमॉर्टम हुआ तो पता चला कि लड़की के साथ कई दिनों तक गैंगरेप हुआ। उसे भूखा रखा गया और नशे की गोलियां खिलाई गयी। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से ये भी पता चला कि उसकी हत्या उसके दुपट्टे से गला घोंटकर की गयी। बाद में आरोपियों ने बच्ची के सिर को पत्थर से बुरी तरह कुचल दिया। जंगल में मासूम अपनी घोड़ों को चराने गई थी लेकिन कभी वापस नहीं आई।

इस फूल सी बच्ची के साथ इतनी हैवानियत की बात सामने आने के बाद लोगों में जबरदस्त गुस्सा है। इसे कम्युनल रंग भी दिया जा रहा है। जिस मासूम बच्ची की गैंगरेप के बाद बेदर्दी से हत्या हुई वो मुसलमान है और उसके कत्ल में पकड़े गए सभी आरोपी हिन्दू हैं इसलिए मामला कम्युनल हो गया है। जम्मू में आरोपियों के पक्ष में प्रदर्शन हो रहे हैं। सरकार ने इसकी जांच क्राइम ब्रांच को सौंपी। क्राइम ब्रांच ने SIT बनाकर इस मामले की तफ्तीश शुरू की और 18 दिन में जांच पूरी करके चार्जशीट दाखिल कर दी।

 

news credit -abp , ndtv

Write Your Own Review

Customer Reviews

सबसे तेज़

अन्य खबरे