Bhopal Couple Murder: मृतक का ATM चोरी, खाते से 10 लाख गायब

भोपाल। टीटी नगर इलाके में बुधवार दोपहर पुलिस के एक रिटायर्ड एएसआई के मकान में किराए से रहने वाले दपंती की हत्या से सनसनी फैल गई है। बताया जा रहा है

इंडिया, कोर न्यूज़ टीम मध्यप्रदेश Last updated: 11 April 2019 | 14:00:00

Bhopal Couple Murder: मृतक का ATM चोरी, खाते से 10 लाख गायब

भोपाल। टीटी नगर इलाके में बुधवार दोपहर पुलिस के एक रिटायर्ड एएसआई के मकान में किराए से रहने वाले दपंती की हत्या से सनसनी फैल गई है। बताया जा रहा है कि मृतक डालचंद्र दस माह पहले ही वन विभाग से रिटायर हुआ था। उसे पीएफ की मोटी रकम मिली थी, जिससे वह अपना मकान बनवा रहा था। लेकिन किसी ने एटीएम कार्ड चोरी कर उसके खाते से लाखों की रकम भी निकाल ली थी। इस दोहरे हत्याकांड में पुलिस की शक की सुई करीबियों पर है। उनसे पूछताछ जारी है।

टीटी नगर सीएसपी उमेश तिवारी के अनुसार प्रियदर्शनी नगर में रहने वाले 61 वर्षीय डालचंद्र रजक अपनी पत्नी बेटीबाई (60) और छोटी बेटी नेहा (28) के साथ पुलिस के रिटायर्ड एएसआई टीआर चोरीवार के यहां किराये से रहते थे। वह वन विभाग से चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी से रिटायर हुए थे।कमरे में मृत मिल, दरवाजा आधा खुला था

रिटायर होने के बाद डालचंद्र को पीएफ की मोटी रकम मिली थी। इससे वह प्रियदर्शनी नगर में ही खुद का मकान बनवा रहे थे। उस मकान में पुताई करने वाला मजदूर राकेश अहिरवार जब काम की जानकारी देने उनके पास गया तो उसने घर का दरवाजा आधा खुला देखा। वह अंदर गया तो सामने डालचंद्र पलंग में खून में लथपथ पड़े थे। उसके पीछे दूसरे कमरे में उनकी पत्नी बेटीबाई पलंग में मृत पड़ी थी। इसके बाद राकेश ने मकान मालिक को घटना की जानकारी दी। पुलिस ने मौके पर पहुंच जांच शुरू कर दी हैये है पूरा मामला

टीटी नगर स्थित प्रियदर्शिनी नगर में बुजुर्ग दपंती के हत्याकांड की पुलिस जांच में सामने आया है कि उनकी छोटी बेटी सुबह एमपी नगर स्थित अपने दफ्तर गई थी। घर में उसके बुजुर्ग माता-पिता अकेले थे। दोपहर में हत्यारे ने उसके पिता के सिर पर सिल के बट्टे से कई वार किए वहीं मां का गला न सिर्फ रेता बल्कि उनके हाथ की नस भी काट दी। इस तरह दोनों की हत्या कर दी गई। चौंकाने वाली बात यह है कि आस पड़ोस वालों को इसकी भनक तक नहीं नहीं लगी। जबकि घटनास्थल के पास मकान मालिक का एक कमरा है। वहीं साक्ष्य मिले हैं कि दंपती ने संघर्ष भी किया था। इसके बावजूद हत्या करने वाला आसानी से फरार हो गया। एएसपी अखिल पटेल के अनुसार मृतक डालचंद्र रजक मूलत: ग्राम मोठी सागर जिले के रहने वाले थे। उनकी दो बेटियां हैं। बड़ी बेटी विमला की शादी वनखेड़ी पिपरिया जिला होशंगाबाद में हुई है। एक बेटा था, जिसकी बीमारी के कारण मृत्यु हो चुकी है। सबसे छोटी बेटी नेहा है।किसी ने नहीं सुनी कोई आवाज

प्रियदर्शिनी नगर में जिस मकान में एक दंपती की हत्या कर दी गई, वह काफी घनी आबादी का इलाका है। बावजूद किसी ने भी हत्या के दौरान कोई आवाज तक नहीं सुनी। मकान मालिक एएसआई टीआर चोरीवार ने बताया कि 2010 में वह पुलिस से सेवानिवृत हुए हैं। डालचंद्र को दो माह पहले ही उन्होंने मकान किराये पर दिया था। उन्होंने किसी प्रकार की कोई आवाज नहीं सुनी। दंपती का स्वभाव काफी अच्छा था। बेटी की तबीयत बिगड़ गई मृतक की बेटी नेहा एक निजी कंपनी में टेलीकॉलर की नौकरी करती है। उसे घटना की जानकारी आफिस में ही लगी। इसके बाद उसका रिश्तेदार उसे घर ले गया। माता-पिता के शव देखकर बेसुध हो गई और उसकी तबीयत बिगड़ गई थी।सुबह बैंक गया था तब खाते से चोरी होने का पता चला

भाई रामसेवक ने बताया कि डालचंद्र ने मकान बनाने के लिए दो चेक ठेकेदार को दिए थे। दोनों चेक बाउंस हो गए थे। इसके बाद वह बुधवार को सतपुड़ा की एसबीआई ब्रांच में गए थे। जहां डालचंद्र से मेरी मुलाकात भी हुई थी। पासबुक में एंट्री करवाने के बाद उन्हें खाते में सिर्फ 36 हजार रुपए मिले। चर्चा है कि करीब 10 लाख की रकम खाते से निकाली गई है। कुछ दिन पहले डालचंद्र का एटीएम कार्ड भी गायब हो गया था। पासबुक में एंट्री करवाते समय बैंक कर्मचारी ने कहा था कि इतनी बार ट्रांजेक्शन हुआ कि पूरी पासबुक भर गई। दूसरी नई पासबुक बनवानी पड़ी।पांच भाई चार शासकीय कर्मचारी

डालचंद्र के चार भाई और दो बहनें हैं। डालचंद्र के तीन भाई भी सरकारी कर्मचारी हैं। जिनमें दो भाई भोपाल में रहते हैं। एक सागर और एक उनके गांव मोठी में है। उनके भाई रामसेवक का कहना है कि डालचंद्र का मकान बन रहा है। इसके लिए मेरा बेटा उनके पास आता जाता रहता था।

17 लाख के करीब मिले थे रिटायर होने पर

भाई रामसेवक रजक ने बताया कि डालचंद्र के रिटायर होने के बाद उन्हें पीएफ और अन्य को मिलाकर करीब 17 से 18 लाख रुपए मिले थे। इस रकम से वह प्रियदर्शिनी नगर में मकान बनवा रहे थे। उसका ज्यादातर काम पूरा हो चुका है।

करीबी को लिया हिरासत में

पुलिस ने इस दोहरे हत्याकांड में मृतक के एक करीबी को हिरासत में लिया है। उसने मृतक के मोबाइल पर दोपहर 12 से एक बजे के बीच में 10 कॉल किए थे। करीबी को देखे जाने की पुष्टि मृतक का मकान बनाने वाले ठेकेदार ने की है।

इन बिंदुओं पर जांच का फोकस

-एटीएम चोरी हुआ तो उससे रकम निकलने का मैसेज मोबाइल फोन पर आया या नहीं?

-किसी ने संघर्ष की आवाज नहीं सुनी, हत्यारा चुपचाप कैसे निकला?

-मोबाइल फोन पर किस - किस से हुई बात?

-एटीएम चोरी और रकम निकलने की शिकायत क्यों नहीं की गई?

-एटीएम ब्लॉक क्यों नहीं करवाया?

- करीबियों के कॉल डिटेल निकाली जाएगी।

 

 

 

credit by: new duniya 

Write Your Own Review

Customer Reviews

सबसे तेज़

अन्य खबरे