मध्यप्रदेश : मौसा ने 8 महीने की बच्ची से किया रेप, फिर कर दी हत्या

मृतक बच्ची का परिवार बेहद गरीब है. वे गुब्बारे बेचकर गुजारा करते हैं और सड़क पर ही रहते हैं. घटना वाले दिन भी वे राजबाड़ा महल के बाहर सो रहे थे, सुबह उठने पर जब बच्ची गायब मिली तो परेशान होकर उन्होंने उसे तलाशना शुरू कर दिया

इंडिया, कोर न्यूज़ टीम मध्यप्रदेश Last updated: 21 April 2018 | 11:06:00

मध्यप्रदेश  मौसा ने 8 महीने की  बच्ची से किया रेप, फिर कर दी हत्या

मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में शर्मशार कर देने वाली घटना सामने आई यहां पर आठ महीने की मासूम का शव मिला है. जानकारी के अनुसार, मासूम के प्राइवेट पार्ट्स से खून निकलता मिला था, जिसके बाद आशंका जताई जा रही है कि उसके साथ रेप किया गया और फिर हत्या कर दी गई. जब शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया तो शॉर्ट पीएम रिपोर्ट में रेप की पुष्टि हो गई. घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी खंगालने पर पुलिस को एक संदिग्ध युवक नजर आया, जिसकी पहचान बच्ची के मौसा के रूप में हुई है. पुलिस पूछताछ में आरोपी ने अपना जुर्म कुबूल कर लिया है. सामने आया है कि वारदात से पहले पीड़िता की मां के साथ आरोपी की बहस हुई थी, जिसके बाद उसने वारदात को अंजाम दिया.

पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) हरिनारायणाचारी मिश्रा ने मामले की जानकारी देते हुए मीडिया को बताया कि उन्हें लोगों से सूचना मिली थी शहर के राजबाड़ा इलाके में स्थित वाणिज्यिक इमारत के बेसमेंट में एक बच्ची का लहूलुहान शव मिला है. सूचना मिलने पर पुलिस की टीम मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में ले लिया.

मृतक बच्ची का परिवार बेहद गरीब है. वे गुब्बारे बेचकर गुजारा करते हैं और सड़क पर ही रहते हैं. घटना वाले दिन भी वे राजबाड़ा महल के बाहर सो रहे थे, सुबह उठने पर जब बच्ची गायब मिली तो परेशान होकर उन्होंने उसे तलाशना शुरू कर दिया, जिसके बाद उन्हें बच्ची का शव मिला. उसके आसपास खून बिखरा हुआ था.

पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज खंगाले तो उन्हें उसमें एक युवक सोते हुए परिवार के पास से बच्ची को उठाता हुआ ले जाता दिखा. उसने दुधमुंही बच्ची को अपने कंधे पर डाल लिया, ताकि लोगों को शक न हो. फिर वह उसे करीब 50 मीटर दूर स्थित वाणिज्यिक इमारत के तलघर में ले गया, जहां उसने रेप और हत्या की वारदात को अंजाम दिया.

परिजनों को फुटेज दिखाने पर युवक की पहचान 21 वर्षीय सुनील भील के रूप में हुई है. ये युवक रिश्ते में बच्ची का मौसा लगता है. एसआईटी की जांच में पहले पूछताछ करने पर परिजनों ने सुनील को आरोपी मानने से इनकार कर दिया था. लेकिन जब सबूत सामने आए तो आरोपी को हिरासत में लेकर कड़ी पूछताछ की गई, इस दौरान उसने वारदात को अंजाम देने बात स्वीकार की.

आरोपी ने बताया कि घटना वाले दिन पीड़िता की मां के साथ उसकी बहस हुई थी. रात को सोने के बाद उसने महिला की 8 महीने की बच्ची को अगवा किया और उसके साथ वाणिज्यिक इमारत में वारदात को अंजाम दिया.

Write Your Own Review

Customer Reviews

अन्य खबरे