जज के सामने सिर झुकाए खड़ा रहा रामपाल, फैसला सुन फूट-फूट कर रोई करीबी महिला

हिसार। जिस रामपाल के आगे उसके हजारों अनुयायी अनुयायी सिर झुकाते थे, वह सेंट्रल जेल वन में बृहस्‍पतिवार को लगी विशेष अदालत में सिर झुकाए खामोश खड़ा था।

इंडिया, कोर न्यूज़ टीम नई दिल्ली Last updated: 12 October 2018 | 10:35:00

जज के सामने सिर झुकाए खड़ा रहा रामपाल, फैसला सुन फूट-फूट कर रोई करीबी महिला

हिसार। जिस रामपाल के आगे उसके हजारों अनुयायी अनुयायी सिर झुकाते थे, वह सेंट्रल जेल वन में बृहस्‍पतिवार को लगी विशेष अदालत में सिर झुकाए खामोश खड़ा था। घड़ी में दोपहर के सवा बारह बजे थे। अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश डीआर चालिया अपनी कुर्सी पर बैठे थे। उन्होंने रामपाल समेत सभी आरोपितों की हाजिरी ली। इस दौरान बबीता सहित तीनों आरोपित महिलाएं कठघरे में खड़ी थीं। रामपाल व अन्य आरोपित जज के सामने खड़े थे। रामपाल के चेहरे पर कोई भाव नहीं था।

जैसे ही एडीजे डीआर चालिया ने रामपाल समेत सभी आरोपितों को दोषी करार दिया तो रामपाल के चेहरे की हवाइयां उड़ गईं। उसने अपने हाथ कानों पर लगा लिए। वहीं रामपाल की करीबी बबीता कठघरे में ही फूट-फूटकर रोने लगी। सजा सुनाने की तारीख 16 अौर 17 अक्‍टूबर तय करने के बाद एडीजे वहां से चले गए।

इससे पहले एडीजे जब अदालत में पहुंचे तो रामपाल कुर्सी पर बैठा था। वह सफेद रंग की पायजामानुमा पेंट और कुर्ता पहने हुए था। एडीजे को देखते ही वह खड़ा हो गया और इसके बाद पूरी प्रक्रिया के दौरान गर्दन झुकाए खड़ा रहा

सेंट्रल जेल वन में लगी अदालत में 14 आरोपित पुलिस ने पेश कर रखे थे। 15वां आरोपित रामपाल सेंट्रल जेल टू में बंद था। अदालत ने पुलिस को आरोपित रामपाल को पेश करने के आदेश दिए। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की टीम रामपाल को जेल टू से लेकर आई थी। फैसले के बाद उसे दोबारा जेल टू में भेज दिया गया।
जज के सामने सिर झुकाए खड़ा रहा रामपाल, फैसला सुन चेहरे की उड़ गईं हवाइयां

ऐसे चला घटनाक्रम
- सुबह 9.45 बजे : सरकारी वकील महेंद्रपाल खीचड़, राजीव सरदाना, ओम प्रकाश बिश्नोई, नरेंद्र कुमार पहुंचे
9.55 बजे : आरोपित पक्ष के वकील जेके गक्खड़, महेंद्र सिंह नैन अपने जूनियर वकीलों के साथ अदालत पहुंचे

- 10 बजे : सेंट्रल जेल एक में विशेष अदालत शुरू


हत्‍या के दो मामलों में रामपाल सहित 23 दोषी करार, हिसार कोर्ट 16 व 17 को सजा सुनाएगी
यह भी पढ़ें
- 10.30 बजे : एडीजे डीआर चालिया आए और रामपाल को अदालत में लाने के आदेश जारी किए

- 12.15 बजे : सुरक्षा घेरे में पुलिस आरोपित रामपाल को राजगढ़ रोड स्थित सेंट्रल जेल-2 से लेकर विशेष अदालत में पहुंची


- 12.30 बजे : रामपाल को फैसला सुनने के बाद वापस सेंट्रल जेल -2 में सुरक्षा घेरे में भेज दिया गया।

सरकारी वकील ने की सजा सुनाने की अपील
अदालत द्वारा रामपाल व अन्य को दोषी करार दिए जाने के बाद सरकारी वकील राजीव सरदाना ने जज से इस मामले में बृहस्पतिवार या शुक्रवार को ही सजा पर फैसला सुनाने की अपील की। उनकी तरफ से लॉ एंड ऑर्डर व्यवस्था को देखते हुए यह अपील की गई थी, लेकिन जज ने उसे अनदेखा कर दिया।

 

 

credit by: jagran

Write Your Own Review

Customer Reviews

सबसे तेज़

अन्य खबरे