जयपुर में आरक्षण के विरोध में दवा ब्यापारी ने लगाई आग

आग लगाने के पहले रघुवीर शरण ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट डाली. इसमें उन्होंने लिखा है कि स्वप्न में मैंने भारत माता की वह करुण चीत्कार सुनी और देखा कि चारों तरफ गिद्ध मंडरा रहे है

इंडिया, कोर न्यूज़ टीम जयपुर Last updated: 09 April 2018 | 11:08:00

जयपुर में आरक्षण के विरोध में दवा ब्यापारी ने लगाई आग


जानकारी के मुताबिक, जयपुर निवासी रघुवीर शरण अग्रवाल एससी/एसटी एक्ट में बदलाव को लेकर चल रही बहस से काफी परेशान थे. दो अप्रैल को देशभर में हुए हिंसक प्रदर्शनों से वो परेशान हो गए थे. आसपास के लोगों ने मीडिया को बताया कि रघुवीर सामाजिक मुद्दों को लेकर चर्चा करते रहते थे. आरक्षण प्रणाली को लेकर वे हमेशा विरोध में रहे.

जयपुर में उस वक्त हड़कंप मच गया जब एक 45 वर्षीय राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के पदाधिकारी ने खुद को पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी. वह 100 मीटर तक जलता हुआ भारत माता जयकारे के नारे लगाते हुए दौड़ता रहा.

बताया जा रहा है कि आग लगाने के पहले रघुवीर शरण ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट डाली. इसमें उन्होंने लिखा है कि स्वप्न में मैंने भारत माता की वह करुण चीत्कार सुनी और देखा कि चारों तरफ गिद्ध मंडरा रहे है. जब हम दूसरों के बहकावे में आ जाते हैं तो चाहे कोई भी हो, उसका स्वयं का विवेक शून्य हो जाता है. भाई से भाई को लड़वा कर अपना स्वार्थ सिद्ध करना चाहते हैं.

बीच सड़क पर जलते हुए आदमी को भागते देखकर लोग चौंक गए. लोगों ने पानी डालकर आग बुझाई और एसएमएस अस्पताल में ले गए. यहां से उसके परिजन उन्हें दिल्ली ले गए. वे 80% तक झुलसे हैं.स्थानीय पुलिस की टीम और एंबुलेंस के पहुंचने पर गंभीर रूप से झुलसे दवा व्यापारी रघुवीर को एसएमएस अस्पताल ले जाया गया. यहां स्थिति में सुधार नहीं हुआ तो उन्हें दिल्ली रेफर कर दिया गया.


बताया जा रहा है कि रघुवीर शरण दवा ब्यापारी है और उसके परिवार में पत्नी सहित दो बेटे और एक बेटी है. उन्हें भी अपने पिता के इस कदम के बारे में कोई जानकारी नहीं थी. पुलिस द्वारा सूचना मिलने पर उन्हें घटना के बारे में पता चला.

 

 

photo credit hindustan 

Write Your Own Review

Customer Reviews

अन्य खबरे