बहू का नौकरी करना पसंद नहीं कह कर ससुर ने सरेआम बहू की काटी गर्दन

एक शख्स ने अपनी ही बहू का कत्ल इस लिए कर दिया क्योंकि उसे अपनी जाति की औरतों का नौकरी करना पसंद नहीं था. उसने सरे बाजार तलवार से अपनी बहू पर तब तक वार किए जब तक वह मर नहीं गई.|

इंडिया, कोर न्यूज़ टीम राजस्थान Last updated: 19 March 2018 | 12:55:00

बहू का  नौकरी करना पसंद नहीं कह कर ससुर ने सरेआम बहू की काटी गर्दन

 राजस्थान के अलवर में एक व्यक्ति द्वारा अपनी बहू की हत्या करने का मामला सामने आया है। आरोपी ने अपनी बहू की हत्या केवल इसलिए की क्योंकि उसे उसका घर के बाहर जाकर काम करना पसंद नहीं था और वह इसे राजपुताना शान के खिलाफ समझता था। यह मामला अलवर जिले के शाहजहांपुर गांव का है। मृतक महिला की पहचान उमा के रूप में हुई है। उमा गांव में स्थित एक फैक्टरी में काम करती थी लेकिन उसके ससुर को उसका काम करना पसंद नहीं था। आए दिन उमा के बाहर काम करने जाने को लेकर उसके और उसके ससुर के बीच झगड़ा होता था।

आपको बता दे  एक शख्स ने अपनी ही बहू का कत्ल कर दिया क्योंकि उसे अपनी जाति की औरतों का नौकरी करना पसंद नहीं था. उसने सरे बाजार तलवार से अपनी बहू पर तब तक वार किए जब तक वह मर नहीं गई.|

झूठी शान के लिए बहू का सरेआम क़त्ल ......

आपको बता दे ३४वर्ष की उषा अपने परिवार के पालन पोषण के लिए एक प्राइवेट फैक्ट्री में काम करती थी. राजपूत परिवार से ताल्लुक रखने वाली इस महिला के ताया ससुर ममराज को उषा का नौकरी करना पसंद नहीं था. उसे लगता था कि राजपूत समाज की महिलाओं को नौकरी नहीं करनी चाहिए. 15 तारीख को उषा ड्यूटी पर जा रही थी तभी उसने तलवार से सरेआम उषा की गर्दन काट दी. हत्या के बाद ममराज मौके से फरार हो गया. उषा की मौके पर मौत हो गई.|


जानकारी के मुताबिक  खाटू श्याम मंदिर के पास ममराज पहले से घात लगाए बैठा था. तलवार से उषा का कत्ल करने के बाद वह तलवार लहराता हुआ खेतों की ओर भाग गया. उसने उषा पर कई वार किए थे. लोग वहां मौजूद थे लेकिन किसी ने उषा की मदद नहीं की. हालांकि भीड़ में से किसी ने पुलिस को फोन कर दिया था.|


फ़िलहाल शाहजहांपुर थाना पुलिस मौके पर पहुंची ओर शव को मोर्चरी में रखवा दिया. इसके बाद मृतका के परिजनों को सूचना दी गई. उषा का पति मुकेश राजपूत एक प्राइवेट फैक्टरी में काम करता है. महंगाई के इस दौर में घर का खर्चा उठाने के लिए दोनों पति-पत्नी मेहनत करते थे लेकिन एक शख्स की गलत सोच ने एक हंसते खेलते परिवार की खुशियां छीन लीं.|


पुलिस के मुताबिक पहले उषा एक स्कूल में पढ़ाने जाती थी वहां भी ससुर ममराज ने पहुंच कर तमाशा खड़ा किया था, उस वक्त तो मुकेश ने मौके पर पहुंच कर बात संभाल ली थी लेकिन मजबूरन वहां से उषा को नौकरी छोड़नी पड़ी. ममराज खुद उपनी सारी संपत्ति बेच चुका था.फ़िलहाल पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है और आगे की कार्रवाई कर रही है.|

Write Your Own Review

Customer Reviews

सबसे तेज़

अन्य खबरे