सोनिया के गढ़ में अमित शाह , बड़ी सेंधमारी की तैयारी

बीजेपी 2019 में सोनिया गांधी के खिलाफ मजबूत किलेबंदी करने की रणनीति बना रही है. बता दें कि 2014 में यूपी की 80 लोकसभा सीटों में से कांग्रेस सिर्फ रायबरेली और अमेठी ही जीत सकी थी. जबकि बीजेपी ने 71 सीटें जीती थीं. बीजेपी ने इस बार सूबे की 80 की 80 सभी

इण्डिया, कोर न्यूज़ टीम लखनऊ Last updated: 21 April 2018 | 12:28:00

सोनिया के गढ़ में अमित शाह , बड़ी सेंधमारी की तैयारी

बीजेपी ने कांग्रेस को उसके ही दुर्ग में घेरने की रणनीति बनाई है. इससे पहले बीजेपी ने पिछले लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी को अमेठी में घेरने की कवायद की थी, जिसके चलते कांग्रेस को अपना किला बचाने में पसीने छूट गए थे. इस बार बीजेपी ने सोनिया गांधी को रायबरेली में घेरने का प्लान बनाया है. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह आज रायबरेली के दौरे पर पहुंच रहे हैं.

अमित शाह आख़िर रायबरेली में क्यों रैली कर रहे हैं?

इस सवाल के दो जवाब हैं. कांग्रेस के एमएलसी दिनेश सिंह को बीजेपी में शामिल कराया जायेगा. उनके एक भाई राकेश सिंह कांग्रेस से विधायक हैं. वे अभी वहीं बने रहेंगे. पार्टी छोड़ने पर उनकी सदस्यता जा सकती है. दिनेश के एक भाई अवधेश ज़िला पंचायत अध्यक्ष हैं. इस परिवार का कांग्रेस छोड़ना पार्टी के लिए एक झटका है.

बता दें कि पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने सोनिया गांधी के सामने अजय अग्रवाल को मैदान में उतारा था. मोदी लहर के बावजूद वो सोनिया के सामने कड़ी चुनौती पेश नहीं कर सके. यही वजह थी कि सोनिया ने करीब तीन लाख से ज्यादा मतों से बीजेपी उम्मीदवार को हराया था. ऐसे में बीजेपी ने 2019 में रायबरेली की घेराबंदी करने की रणनीति बनाई है. माना जा रहा है कि बीजेपी दिनेश सिंह के सोनिया गांधी के सामने उतार सकती है.

रायबरेली की 5 विधान सभा सीटों में से तीन पर बीजेपी और एक एक सीट पर कांग्रेस और एसपी का क़ब्ज़ा है. पिछली बार सोनिया गांधी को 5 लाख 26 हज़ार वोट मिले थे. जबकि बीजेपी के उम्मीदवार को सिर्फ़ 1 लाख 73 हज़ार वोट ही मिले थे. पास की अमेठी लोक सभा क्षेत्र में पिछला मुक़ाबला दिलचस्प रहा था. राहुल गांधी और बीजेपी की स्मृति ईरानी के बीच एक लाख वोटों का ही अंतर था

बीजेपी दिनेश सिंह के जरिए 2019 में सोनिया गांधी के खिलाफ मजबूत किलेबंदी करने की रणनीति बना रही है. बता दें कि 2014 में यूपी की 80 लोकसभा सीटों में से कांग्रेस सिर्फ रायबरेली और अमेठी ही जीत सकी थी. जबकि बीजेपी ने 71 सीटें जीती थीं. बीजेपी ने इस बार सूबे की 80 की 80 सभी सीटें जीतने का लक्ष्य बनाया है.

 

photo credit India TV

 

Write Your Own Review

Customer Reviews

सबसे तेज़

अन्य खबरे