मायावती की पार्टी BSP के खाते में है 670 करोड़ रुपए, रेस में कहीं नहीं ठहरती BJP और कांग्रेस

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव की सरगर्मी परवान चढ़ रही है. सभी पार्टियां जोर-शोर से चुनाव प्रचार कर रही हैं और इसमें तमाम आधुनिक संसाधनों का इस्तेमाल किया जा रहा है

इंडिया, कोर न्यूज़ टीम लखनऊ Last updated: 15 April 2019 | 12:34:00

मायावती की पार्टी BSP के खाते में है 670 करोड़ रुपए, रेस में कहीं नहीं ठहरती BJP और कांग्रेस

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव की सरगर्मी परवान चढ़ रही है. सभी पार्टियां जोर-शोर से चुनाव प्रचार कर रही हैं और इसमें तमाम आधुनिक संसाधनों का इस्तेमाल किया जा रहा है. ऐसे में यहां हम आपको बता रहे हैं कि देश की कौन सी पार्टी के पास सबसे अधिक बैंक बैलेंस है. चुनाव आयोग की एक रिपोर्ट के मुताबिक, बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) के पास देश में किसी भी अन्य दलों की तुलान में बैंक खाते में सबसे ज्यादा पैसा है. इस रिपोर्ट के मुताबिक मायावती की पार्टी के अलग-अलग बैंक खातों में 670 करोड़ रुपए जमा हैं.

 

पैसों के मामले में दूसरे नंबर पर समाजवादी पार्टी (एसपी) है. अखिलेश यादव की पार्टी के पास 471 करोड़ रुपए का बैंक बैलेंस है. यहां ये दिलचस्प ये है कि पैसों के मामले में देश की दो बड़ी पार्टी बीजेपी और कांग्रेस, बीएसपी-एसपी के काफी पीछे है. कांग्रेस के पास 196 करोड़ का बैंक बैलेंस है जबकि सत्तापार्टी बीजेपी के पास 82 करोड़ का बैंक बैलेंस है. अन्य दलों में चन्द्रबाबू नायडू की पार्टी टीडीपी के पास 107 करोड़, सीपीएम के पास 3 करोड़ और आम आदमी पार्टी के पास 3 करोड़ रुपए का बैंक बैलेंस है.

 

 

सत्तापार्टी बीजेपी के पास एसपी, बीएसपी और कांग्रेस की तुलना में काफी कम बैंक बैलेंस है जबकि पार्टी को साल 2017-18 में 1027 करोड़ रुपए का चंदा मिला. इसके पीछे की बड़ी वजह चुनाव प्रचार पर बीजेपी का अत्यधिक खर्च माना जा रहा है.

 

एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक साल 2017-18 में बीएसपी की आमदनी 174 करोड़ रुपए से घटकर 52 करोड़ हो गई. कांग्रेस पार्टी की साल 2016-17 में आमदनी 225 करोड़ की रही थी. साल 2017-18 के इनकम की जानकारी कांग्रेस पार्टी ने चुनाव आयोग की नहीं सौंपी है. सीपीएम की आमदनी इस दौरान 100 करोड़ रुपए रही है. आपको बता दें कि राजनीतिक पार्टियों को मिले कुल चंदे में स्वैच्छिक दान की हिस्सेदारी 87 फीसदी है.

 

 

credit by: abp news 

Write Your Own Review

Customer Reviews

सबसे तेज़

अन्य खबरे