पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला,नवाज शरीफ के आजीवन चुनाव लड़ने पर लगायी रोक

सुप्रीम कोर्ट फैसले के मुताबिक संविधान की धारा 62(1)(एफ) के तहत अयोग्य करार दिए जाने के बाद कोई भी व्यक्ति आजीवन चुनाव नहीं लड़ सकता है.

इंडिया, कोर न्यूज़ टीम डेस्क Last updated: 13 April 2018 | 15:03:00


पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने पनामा पेपर लीक मामले में प्रधानमंत्री पद और पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज (पीएमएल-एन) पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए अयोग्य करार दिए जाने के बाद पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ अब आजीवन चुनाव भी नहीं लड़ सकेंगे.शुक्रवार को PAK की सुप्रीम कोर्ट ने यह ऐतिहासिक फैसला सुनाया. फैसले के मुताबिक संविधान की धारा 62(1)(एफ) के तहत अयोग्य करार दिए जाने के बाद कोई भी व्यक्ति आजीवन चुनाव नहीं लड़ सकता है.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्तान के संविधान के अनुच्छेद 62 (1) (एफ) के अनुसार सार्वजनिक पद पर आसीन व्यक्ति को निश्चित शर्तों के अनुसार अयोग्य ठहराया जाता है लेकिन अयोग्यता की अवधि तय नहीं की गई है। गौरतलब है कि अनुच्छेद 62 के तहत ही 68 वर्षीय शरीफ को 28 जुलाई, 2017 को पनामा पेपर्स मामले में अयोग्य ठहराया गया था। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट की एक अन्य पीठ ने पिछले साल 15 दिसंबर को इसी प्रावधान के तहत पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के नेता जहांगीर तरीन को अयोग्य ठहराया था।


न्यायमूर्ति उमर अता बंदियाल के फैसले में कहा गया है कि भविष्य में किसी भी सांसद या लोक सेवक को अगर अनुच्छेद 62 के तहत अयोग्य ठहराया जाता है तो उन पर यह प्रतिबंध स्थायी होगा.



Write Your Own Review

Customer Reviews

सबसे तेज़

अन्य खबरे