अमेरिका ने ब्रिटेन फ्रांस के साथ सीरिया के खिलाफ युद्ध छेड़ा, रूस ने सीरिया का साथ देने का किया ऐलान

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि ब्रिटेन और फ्रांस के सहयोग और सहमति के आधार पर अमेरिका ने सीरिया के पर हमले किये हैं और यह सैन्य कार्रवाई अभी जारी रहेगा. आगे उन्होंने कहा कि यह हमला सीरिया के राष्ट्रपति असद को रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल से रोकन

इंडिया, कोर न्यूज़ टीम डेस्क Last updated: 14 April 2018 | 09:01:00

अमेरिका ने ब्रिटेन फ्रांस के साथ सीरिया के खिलाफ युद्ध छेड़ा, रूस ने सीरिया का साथ देने का किया ऐलान

सीरिया में केमिकल हमले के जवाब में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि बशर अल असद की ‘आपराधिक ’ सरकार को निशाना बनाने के लिए अमेरिका ने सीरिया के खिलाफ युद्ध छेड़ दिया है और इसमें ब्रिटेन और फ्रांस भी शामिल हैं. यानी अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने साथ मिलकर सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद द्वारा हाल ही में किये गये रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल के खिलाफ सैन्य कार्रवाई शुरू कर दी है. उन्होंने कहा कि सीरिया में कथित रासायनिक हमले से हिंसा में ‘बड़ी वृद्धि ’ हुई.

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि ब्रिटेन और फ्रांस के सहयोग और सहमति के आधार पर अमेरिका ने सीरिया के पर हमले किये हैं और यह सैन्य कार्रवाई अभी जारी रहेगा. आगे उन्होंने कहा कि यह हमला सीरिया के राष्ट्रपति असद को रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल से रोकने से रूस की विफलता का `प्रत्यक्ष परिणाम` है. साथ ही ट्रम्प ने रूस और ईरान को दमिश्क में उनके सहयोगी के साथ खड़ा नहीं होने की भी चेतावनी दी है.


अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने क्यों किया हमलाअमेरिका ने ब्रिटेन फ्रांस के साथ सीरिया के खिलाफ युद्ध छेड़ा, रूस ने सीरिया का साथ देने का किया ऐलान


पश्चिम एशियाई देश सीरिया में कथित तौर पर रसायनिक हथियारों का इस्तेमाल किया गया था. ये कथित रासायनिक हमला सीरियाई शहर डूमा में हुआ था. इसी के विरोध में अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने सीरिया पर मिसाइल दागे. इन देशों का मानना है कि सीरिया ने रासायनिक हथियार इस्तेमाल करके इन देशों के पास हमले के अलावा कोई विकल्प नहीं छोड़ा.


सीरिया में हुए कथित रासायनिक हमले के दौरान 100 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी. सीरिया ने केमिकल अटैक के पीछे अमेरिका का हाथ बताया था जिसके बाद अमेरिका ने संयुक्त रूप से सीरिया पर ये हमला किया है.


सीरिया पर हमले को लेकर अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने अपन बयान में कहा कि इसके लिए सीरिया सरकार को समर्थन और सैन्य सहायता दे रहा रूस ज़िम्मेदार है. रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने हमले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अमेरिका और उसके सहयोगियों की इस कार्रवाई का परिणाम युद्ध हो सकता है.

 



 news credit - ndtv and aajtak  

photo credit cnbc.com

Write Your Own Review

Customer Reviews

सबसे तेज़

अन्य खबरे