जकरबर्ग ने माना फेसबुक पर करोड़ यूजर्स का निजी डेटा लीक, इस लीक में भारतीय भी शामिल

फेसबुक का यह भी कहना है कि डेटा ब्रीच से प्रभावित हुए सबसे ज्यादा यूजर्स अमेरिका के हैं और इंडिया से 5 लाख 62 हजार 455 (0.6 प्रतिशत) यूजर्स के डेटा शेयर किए गए हैं.

इंडिया, कोर न्यूज़ टीम डेस्क Last updated: 05 April 2018 | 14:09:00

जकरबर्ग ने माना फेसबुक पर करोड़ यूजर्स का निजी डेटा लीक, इस लीक में  भारतीय भी शामिल

फेसबुक डेटा लीक मामले में नया खुलासा जकरबर्ग ने माना कि कैंब्रिज एनालिटिका ने 8 करोड़ 70 लाख से अधिक फेसबुक यूजर्स के निजी डाटा का गलत इस्तेमाल किया है उनमें ज्यादातर अमेरिका के रहने वाले हैं. कैंब्रिज एनालिटिका ने अमेरिका के राष्ट्रपति चुनावों में डोनाल्ड ट्रंप के लिए काम किया था. फेसबुक के चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर माइक स्क्रोपर ने एक ब्लॉग पोस्ट लिखकर ये जानकारी सार्वजनिक की है.

आपको बता दें कि पिछले महीने फेसबुक से 5 करोड़ यूजर्स की पर्सनल डाटा लीक होने की बात सामने आई थी. लेकिन, जकरबर्ग ने जो आंकड़े दिए, वो पहले दिए गए आंकड़े से 3 करोड़ 70 लाख ज्यादा हैं. फेसबुक के चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर माइक स्क्रोपर ने एक ब्लॉग पोस्ट लिखकर ये जानकारी सार्वजनिक की है.

इसके पहले फेसबुक ने यह खुलासा नहीं किया था कि अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव 2016 के दौरान डोनाल्ड ट्रंप से जुड़े पॉलिटिकल डेटा एनालिसिस कंपनी `कैम्ब्रिज एनालिटिका` ने कितने यूजर्स की निजी जानकारियां लीक की हुईं.

सोशल मीडिया जगत की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक फेसबुकबुधवार को इसका का शेयर 1.4 प्रतिशत गिरकर 153.90 प्रति डॉलर पहुंच गए। कैंब्रिज एनालिटिका मामले के बाद फेसबुक के शेयर में 16 प्रतिशत की गिरावट आई है। कैंब्रिज एनालिटिका से जुड़े अपने इंवेस्टिगेशन में अमेरिका के न्यूयॉर्क टाइम्स और लंदन के ऑब्जर्वर ने कहा था कि कम से कम 50 मिलियन फेसबुक यूजर्स निजी डेटा लीक प्रकरण में प्रभावित हुए हैं।

सोमवार (२ अप्रैल )को फेसबुक यूजर्स को उनके फीड पर एक नोटिस रिसीव हुई थी. इसमें एक लिंक शेयर की गई थी, जिसके जरिये यूजर्स ये देख सकते थे कि वो किस-किस ऐप का इस्तेमाल कर रहे हैं और इससे अपनी कौन-कौन सी जानकारियां साझा कर रहे हैं. यूजर्स को अनचाहे ऐप को डिलीट करने का मौका भी दिया गया है. फेसबुक का कहना है कि इसमें वो यूजर्स भी शामिल हैं, जिन्होंने कैम्ब्रिज एनालिटिका के साथ अपना डेटा शेयर किया है. फेसबुक का यह भी कहना है कि डेटा ब्रीच से प्रभावित हुए सबसे ज्यादा यूजर्स अमेरिका के हैं. इंडिया से 5 लाख 62 हजार 455 (0.6 प्रतिशत) यूजर्स के डेटा शेयर किए गए हैं.

Write Your Own Review

Customer Reviews

सबसे तेज़

अन्य खबरे